Tag: happiness


हिचकियों में फर्क !


ऐ खुदा हिचकियों में
कुछ तो फर्क डालना होता
अब कैसे पता करूँ कि
कौनसी वाली याद कर रही है 😛 😛


चाय !


बंटू : वेटर, ऐसी चाय पिलाओ जिसे पीकर मन झूम उठे और बदन नाचने लगे
वेटर: सर हमारे यहां भैंस का दूध आता है, नागिन का नहीं 😛 😛 😀


लड़की पसंद है !


संजू : पापा मुझे एक लड़की पसंद है , मैं उससे शादी करना चाहता हूँ
पापा : क्या वो भी तुझे पसन्द करती है ?
संजू : हाँ जी हाँ
पापा : जिस लड़की की पसन्द ऐसी हो मैं उसे अपनी बहू नहीं बना सकता 😂 😛 😛 😛


2nd year का रिजल्ट !


पहला दोस्त : oyee सुन 2nd year का रिजल्ट आ गया क्या ?
दूसरा दोस्त : हाँ आ गया और तमीज़ से बात कर
पहला दोस्त : क्यों ?
दूसरा दोस्त : क्यूंकि अब मैं तेरा senior हूँ  😛 😛 😛


चोरी कैसे की ?


जज : घर में मालिक होते हुए तूने चोरी कैसे की ?
चोर : साहिब आपकी नौकरी भी अच्छी है , सैलरी भी अच्छी है , फिर आप ये सब सीख कर क्या करोगे ? 😛 😛 😛


बादाम !


एक दो बादाम खा कर गाणित के पूरे फार्मूला याद थे ।

अब मुट्ठी भर कर खाते है फिर भी बीवी का जन्मदिन याद नहीं रहता।।।

लगता है बादाम नकली आने लगा है ! 😛 😛 😛


SBI में इंटरव्यू !


SBI में इंटरव्यू चल रहा था।
ब्रांच मेनेजर पहले सवाल का जवाब सुनकर ही 200 से ज्यादा लोगो को रिजेक्ट कर चूके थे।
.
अब अंतिम 3 बचे थे….
.
मेनेजर – तुम्हारा नाम क्या है ?
.
कैंडिडेट 1 – सुरेश सिंह
.
मेनेजर – Get out.
.
मेनेजर – तुम्हारा नाम क्या है ?
.
कैंडिडेट 2 – my name is girish chandra joshi.
.
मेनेजर – दफा हो जाओ.
.
मेनेजर – तुम्हारा नाम क्या है ?
.
कैंडिडेट 3 – Silent
.
मेनेजर – मैंने पूछा what’s ur name ?
.
कैंडिडेट 3 – Still Silent
.
मेनेजर – अबे अपना नाम बता
.
कैंडिडेट 3 – Still No words.
.
मेनेजर – सर ! Plz अपना नाम बताइये।
.
कैंडिडेट 3 – मुझे नहीं पता, काउंटर नम्बर 4 में पूछिये।
.
मेनेजर – Excellent answer…
.
तुम SBI के लिए एकदम सही हो…तुम्हारी नौकरी पक्की। कल से ज्वाइन कर लो। 😛 😛 😛


राष्ट्रीय एकता खतरे में है….!!


अभी चौपाल में देखा कि चार लडके एक ही
बीड़ी पी कर काम चला रहे हैं….
-.-
-.-
-.-
-.-
-.-
और लोग कह देते हैं कि..
राष्ट्रीय एकता खतरे में है….!! 😛 😛 😛


पती पत्नी के बीच लड़ाई हुई…


पती पत्नी के बीच लड़ाई हुई…
पत्नी बाजार जाके जहर लाई और खा लिया….

लेकिन वो मरी नही बिमार हो गई..

पति गुस्से से बोला…
सौ बार कहा है चीजें देख कर खरीदा करो,
पैसे भी गये, काम भी नही हुआ। 😛 😛 😛


शर्मा जी की छत टपक रखी थी !


शर्मा जी की छत टपक रखी थी ठीक डाइनिंग टेबल के ऊपर…

पलंबर ने पूछा – आपको कब पता चला ?

शर्मा जी – कल रात को जब मेरा पैग तीन घंटे तक ख़त्म नहीं हुआ.. 😛 😛 😛